सम्वेदना के स्वर

यह ब्लॉग उस सनातन उत्सवधर्मिता को जीवित रखने का प्रयास है,

जिसमें भाव रस और ताल का प्रतीक आम आदमी का भा-- बसता है.
सम्वेदनाएँ...जो कला, साहित्य, दर्शन, विज्ञान, राजनीति आदि के माध्यम से अभिव्यक्त होती हैं, आम आदमी के मन, जीवन और सरोकार से होकर गुज़रती हैं तथा तलाशती हैं उस भारत को, जो निरंतर लड़ रहा है अपने अस्तित्व की लड़ाई.....

Saturday, May 29, 2010

बुद्धू बक्से का बुद्ध – “लोक-सभा चैनल”

                 
टीवी समाचार चैनलों को हम इस ब्लॉग पर हमेशा समाचार मनोरंजन चैनल नाम से ही सम्बोधित करते रहे हैं. लखनऊ ब्लॉगर्स एसोसिएशन के मित्रों ने तो अपनी एक पोस्ट ही “मीडिया की भड़वागिरी” नाम से छाप डाली.
बहरहाल, आज हमारे देश का टेलिविज़न मीडिया, साबुन-तेल-शैम्पू के विज्ञापनों के बीच, पागलों की तरह चीखता चिल्लाता एक ऐसा मूर्ख बन्दर है, जिसे किसी ने मदिरा पिला दी है और फिर उसे किसी बिच्छू ने काट खाया है. तत्पश्चात उसकी उछल कूद से प्रभावित होकर पीपल के पेड़ से उतर कर एक भूत इसके सर पर चढ़ बैठ गया है.

अपनी इस बात का जब हमने अपने एक संजीदा पत्रकार मित्र से ज़िक्र किया, तो उन्होने तपाक से अपनी टिप्पणी दे डाली, “सच! टेलिविज़न मीडिया एक मूर्ख बन्दर है, जो अपनी विश्वस्नीयता खो चुका है. इस मूर्ख बन्दर ने विज्ञापनों के अंगूरी पैसों से बनी मदिरा पी रखी है, “सर्वशक्तिमान होने के अहंकार” के बिच्छू ने इसे डँस लिया है और अब हालात इतने खतरनाक हो चुके हैं, कि “भ्रष्ट नेताओं तथा उद्योगपतियों” का भूत इसकी सवारी कर रहा है.”
पहले तो हम दोनों ख़ूब हँसे, फिर अपने इस मज़ाक का इतना यथार्तपरक चित्रण सुनकर हम सहम भी गये. पत्रकार मित्र ने हमारी स्थिति भाँपकर आगे कहा, “जानते हो इस बुद्धू बक्से में एक बुद्ध भी है ? कभी लोकसभा चैनल देखा है ? नहीं देखा है तो 1-2 हफ्ते देखो, फिर मेरी बात का मतलब समझ आयेगा.”

इस घटना को तकरीबन तीन माह से ज़्यादा हो चुके हैं और हाल ये है कि हम लोकसभा चैनल के मुरीद हो चुके हैं. लोकसभा चैनल एक ऐसा मंच है जहाँ भारत, इंडिया से बेझिझक होकर सवाल पूंछता है. न विज्ञापनों का झूठा तिलिस्म है, न समाचार से भी बड़े “एंकर जी”, न चीख-चिल्लाहट, न प्रायोजित मुर्गा-लड़ाई, न प्रलय की उद्घघोषणा, न बाबाओं का पर्दाफाश और न भविष्य बांचती कोई जादूगरनी.

लोक सभा चैनल एक आदर्श समाचार चैनल है. इसके कुछ प्रमुख कार्यक्रमों की एक झलक आपके लिएः

1. विचार मंथन: स्वामी अग्निवेश द्वारा प्रस्तुत यह कार्यक्रम, देश और समाज की वास्तविक एवं मूलभूत समस्याओं को संजीदगी से समझता और समझाता है.
2. आप की आवाज़: एक अनूठा कार्यक्रम, जिसमे एंकर दिखता ही नहीं है. माइक्रोफोन और कैमरे का काम आम जनता के बीच घूमते हुए, जनता से जुड़े विषयों पर, जनता की आवाज़ को रिकार्ड भर करना है.
3. बातों बातों में: मृणाल पाण्डे द्वारा प्रस्तुत इस कार्यक्रम में हर हफ्ते एक मशहूर हस्ती से मुलाकात करवायी जाती है. विदुषी मृणाल पाण्डे का शालीन अन्दाज़ आमंत्रित अतिथि को, कब स्टूडियो से आपकी बैठक में ले आता है पता ही नहीं चलता.
4. लोक मंच: सम-सामयिक विषयों के अलावा, संसद मे रखे गये महत्वपूर्ण बिलों पर बिना किसी चीख चिल्लाहट के गहन चर्चा- हिन्दी में और अंग्रेज़ी कार्यक्रम में भी.
5. ए पेज फ्रोम हिस्ट्री: यह एक गम्भीर कार्यक्रम है, जिसमें इतिहास का कोई एक पन्ना खोलकर, उस एतिहासिक घटना का, आमंत्रित बुद्धिजीवियों द्वारा आकलन प्रस्तुत किया जाता है.
6. एकला चलो: उन संसद सदस्यों से बातचीत, जो छोटी पार्टियों से आते हैं. उनकी राजनीति और विकास की अवधारणओं से रुबरु कराता, एक अच्छा कार्यक्रम. जिसका मूलमंत्र है “लोकतन्त्र बहुमत की तानाशाही नही है.”
7. साहित्य संसार: ज्ञानेन्द्र पाण्डे द्वारा साहित्यकारों से साक्षात्कार, पुस्तक मेलों तथा साहित्य-गोष्ठियों की रिपोर्ट, कवि-सम्मेलनों की झलकियाँ आदि. साहित्यिक गतिविधियों का ऐसा नियमित कार्यक्रम किसी चैनल पर देखा नहीं जा सकता.
8. अस्मिता: मूलत: स्त्रीयों के विषय उठाता यह कार्यक्रम इतने सहज फार्मेट में प्रस्तुत किया जाता है जैसे अपनी मित्र मंडली ही मिल बैठ कर बतिया रहें हों.
9. वीकेंड-क्लासिक: मिर्ज़ा ग़ालिब, पोथेर पांचाली, शतरंज के खिलाड़ी जैसी दुर्लभ फिल्में जब भी लोक सभा चैनल के इस कार्यक्रम पर देखने को मिलती हैं, हम अपने प्रियजनों को फोन खटका कर बताते रह्ते हैं.
और अंत में लोक सभा चैनल की The Hindu- Business line समाचार पत्र द्वारा की गई समीक्षाः

Guess which channel is slowly but surely going up the TRP ladder – our very own Lok Sabha TV (LSTV).
In Delhi, LSTV recently equalled the television ratings (TVR) of prominent news channels such as CNBC 18, Headlines Today and CNN-IBN, according to TAM India rating agency.
With a TRP of .01, LSTV's viewership was higher than several international channels such as BBC and CNN. Similar ratings were recorded in Mumbai, where LSTV matched popular news channel NDTV 24X7. Going by the ratings, people are warming up to LSTV, which is said to be the world's only channel to be owned and operated by a House of Parliament.
Publicity campaigns in 2009-10 fetched Rs.4.6 crore, whereas the total capital expenditure for the same period was a meagre Rs. 1.5 crore. It is currently run from the Parliament Library Building and boasts of a modern Production Control room with 10 robotic cameras.
But the channel is not all about the Lok Sabha sessions. It has an array of value-added programmes which are aired after the House sessions and when the Lok Sabha is not meeting. These programmes cover areas relating to democracy, governance, people's issues, gender discourse, constitutional aspects and economy.
Paranjoy Guha Thakurta said: “It is highly unfortunate that it has been without a Head since the past few months and that it could be due to plain bureaucratic lethargy.”
With the recent optimistic TVR levels, industry watchers feel that LSTV must aim to achieve higher figures and resolve the current bureaucratic issues plaguing the channel. While some analysts believe attractive feature stories on entertainment and sports can result in a huge boost in TRPs, others say the channel should continue to build on its USP of a serious news channel.

9 comments:

निशांत मिश्र - Nishant Mishra said...

लोकसभा चैनल बहुत अच्छा चैनल है और मैं इसे मौका पड़ने पर ज़रूर देखता हूँ.
प्रोब्लम सिर्फ इतनी है कि पत्नी और बच्चे सिर्फ घटिया चैनल देखना चाहते हैं और इस मामले में मेरी नहीं चलती.

kshama said...

Pata hi nahi tha is channel ke bareme! Maine to taqreeban apna natahi tod liya hai TV se! Ab ise khoj loongi...aur gar na hua to cable wale ko kah shuru karva loongi!

kshama said...

Aur haan! Kuchh roz mera blogger access khatm ho gaya..us beechh aapki post nikal gayi...tatha mai comment nahi de payi...kshama chahti hun!

योगेन्द्र मौदगिल said...

भाई जी
जिस दिन रिमोट अपने हाथ में होता है तो मैं दूरदर्शन व उससे संबंद्ध चैनल ही देखता हूं पर घरआळी अर बच्चे.....
के कहूं...

राखी, बिगबी, एकता रानी..
घर-घर की बस यही कहानी...

Manoj Bharti said...

इस जानकारी के लिए आभार !!! मैंने भी इस चैनल के कुछ कार्यक्रम देखें हैं, कार्यक्रमों का उद्देश्य सार्थक है और इसकी सादगी और प्रारूप इसे अन्य चैनल्स से अलग करता है ।

दिगम्बर नासवा said...

अफ़सोस .. हमारे दुबई में यह चेनल नही आता ...

soni garg said...

ये चेनल मैंने भी देखा है पर ज्यादा नहीं .......क्योकि बन्दर का नाच देखने कि आदत हो गई है जिस दिन इस नाच से उब जायेंगे उस दिन लोकसभा चेनल पूरे जी जान से देखेंगे ..............

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

yeeeeeee baaaaaaaaaaaaaaaattttttt...ye sab baten likhni mujhe soojhti hi nahee....main to dekhta hun ye lok sabha..par akela hone par..warna dost log gali dete hain yahi haal DD Urdu dekhne par bhi hota hai mera...hehhee... thanku for promoting ..... :)

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

Buzz pe ise apni frnz ke sath share kar raha hun .... :)

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...