सम्वेदना के स्वर

यह ब्लॉग उस सनातन उत्सवधर्मिता को जीवित रखने का प्रयास है,

जिसमें भाव रस और ताल का प्रतीक आम आदमी का भा-- बसता है.
सम्वेदनाएँ...जो कला, साहित्य, दर्शन, विज्ञान, राजनीति आदि के माध्यम से अभिव्यक्त होती हैं, आम आदमी के मन, जीवन और सरोकार से होकर गुज़रती हैं तथा तलाशती हैं उस भारत को, जो निरंतर लड़ रहा है अपने अस्तित्व की लड़ाई.....

Friday, March 11, 2011

भारत में (अ) व्यवस्था किस तरह से काम करती है ?

पिछले दिनों बार बार, किसी न किसी बात पर पी सी बाबू याद आये। कभी अखबार की सुर्खियों में उनकी शक्ल नज़र आयी तो कभी दफ्तर की चौसर से व्याकुल मन में पी सी बाबू का कथन “ व्यव्स्था के कठघरे में खड़े होकर व्यवस्था से नहीं लड़ा जा सकता” गूंजता रहा!

यही कारण था, कि इस रविवार मन नहीं माना और मै जा पहुचां पी सी बाबू के घर!

पी सी बाबू की बैठक में पहले ही से कई लोग बैठे थे और बातचीत में आसपास की समस्यायॉ से लेकर देश और समाज के समकालीन प्रश्नों पर भी सब अपनी अपनी राय दे रहे थे। इसी पृष्ठभूमि में पी सी बाबू से लम्बी बातचीत हुयी जो हमेशा की तरह अविस्मर्णीय रही : -

चैतन्य आलोक : सर! अपने देश की प्रोब्लम है क्या आखिर?
पी सी बाबू : सत्ता का अतिशय केन्द्रीकरण ।

चैतन्य आलोक : पर हम तो संघीय ढ़ांचे में काम करते हैं?
पी सी बाबू : नहीं, उस दिखावटी संघीय ढांचे की बात मैं नहीं कर रहा, जिसका कोई मतलब ही नहीं है।

चैतन्य आलोक : तो फिर उससे परे क्या है?
पी सी बाबू : देखो, इस बात पर अब देश में आम राय है कि “भारत के सभी संसाधनों" पर चन्द रईसों और ताकतवर लोगों का कब्जा है। रईसों और ताकतवर लोगों के बीच बनें इस “सशक्त गठबन्धन” को “सिंडीकेट या माफिया” कह सकते हैं।

चैतन्य आलोक : “सिंडीकेट या माफिया” !!? इतना खौफनाक क्या?
पी सी बाबू : चलों, एक अलग तरह से समझने की कोशिश करतें है और देखते हैं कि देश में फैली (अ) व्यवस्था इस “सिंडीकेट” द्वारा किस तरह से निर्देशित होती है। इसके बाद शायद मेरे इन कठोर शब्दों का आशय तुम्हे स्पष्ट हो।

चैतन्य आलोक : समझाइये सर!
पी सी बाबू : रईसों और ताकतवर लोगों का यह “सिंडीकेट” कुछ “नियम-कायदे” बनाता है ताकि जो लोग रईस और ताकतवर नहीं हैं वह इस (अ) व्यवस्था से हमेशा बाहर रहें। यह “सिंडीकेट”, सभी महत्त्वपूर्ण जानकारियों और ज्ञान को अपने नियन्त्रण में रखता है।

चैतन्य आलोक : जानकारियां और ज्ञान मतलब ?
पी सी बाबू : जानकारियों से यहाँ मतलब धन बनाने, व्यापार और रोजगार की उन सम्भावनाओं से है जिनका पूर्व ज्ञान मात्र कुछ लोगों को ही रहता है।

चैतन्य आलोक : मतलब कौन सी जगह हाई-वे बनाना है, किस प्रकार की टेक्नोलोजी या उत्पाद को बढावा देना है। सरकारी और निजी व्यापार और रोजगार की बयार किस तरफ बहेगी और उससे होने वाले लाभ की गंगा किस तरह और किस किस को तरेगी, वही सब।
पी सी बाबू : बिल्कुल ठीक। फिर इन जानकारियों को सीमित पहुंच तक रखने के लिये रईसों और ताकतवरों का यह “सिंडीकेट” बहुत से नियम-कायदों का मकड़जाल बुनता है। नियम-कायदों के इस मकड़जाल का पहला मकसद यही होता है कि “आम आदमी”, रईसों और ताकतवरों के इस वैभवशाली साम्राज्य से दूर रहे और उसे किसी भी तरह से चैलेंज करने की स्थिति में न पहुचें। नियम-कायदों के इस मकड़जाल में बहुत सी सीढ़ियां होती हैं और हर सीढ़ी पर एक गेट कीपर तैनात होता है।

चैतन्य आलोक : ह्म्म...
पी सी बाबू : यह (अ) व्यवस्था हर गेटकीपर को कुछ ताकत देती है जिनके द्वारा वह अपनी सीमा में नियत नियम-कायदों को नियंत्रित करता है।......

पी सी बाबू : यह बात महत्वपूर्ण है कि गेटकीपर का अहम काम अपने उपर वाली सीढ़ी तक पहुंच को मुश्किल बनाना है, इसके परिणाम स्वरुप प्रत्येक उपर वाले गेटकीपर की ताकत कई गुना बढ़ती जाती है। और अंत में सिंडीकेट महा-शक्तिशाली हो जाता है।

चैतन्य आलोक : बहुत रोचक है, फिर..

पी सी बाबू : रईसों और ताकतवरों का यह सशक्त गठबन्धन या “सिंडीकेट”, अन्य सहयोगी लोगों के “शातिर नेटवर्क” के द्वारा नियम-कायदों के इस मकड़जाल को नियंत्रित करता है, और यह सुनिश्चित करता है (अ) व्यवस्था की सभी संस्थायें इस “शातिर नेटवर्क” के द्वारा नियंत्रित की जायें। इन संस्थायों के मुखिया के पद पर जब शातिर नेटवर्क के व्यक्ति को बैठाया जाता है तो उसकी ताकत बेहद उंचे दर्जे की हो जाती है क्योकिं उसके कार्य अब विधि और संविधान सम्मत हो जाते हैं और उन्हें चैलेंज करना मुश्किल ही नहीं लगभग नामुमकिन को जाता है। “सशक्त गठबन्धन या सिंडीकेट” इस बात के पूरे इंतजाम करता है कि “शातिर नेटवर्क” के एक- एक व्यक्ति को ताउम्र पूर्ण सरंक्षण दिया जाये।

चैतन्य आलोक : पर देश का “वाच डाग” मीडिया और इस “शातिर नेटवर्क” से बाहर हुये लोग क्या इतनी आसानी से इसे काम करने दे सकते हैं?

पी सी बाबू : “मीडिया” जो जनमानस को निरंतर प्रभावित करता है उसे भी इसी “शातिर नेटवर्क” द्वारा येन केन प्रकारेण नियंत्रण में रख कर “वाच डाग” से “लैप डाग” बना दिया जाता है। “शातिर नेटवर्क” में उन लोगों को सहर्ष स्वीकार कर लिया जाता जो या तो येन केन प्रकारेण, “सशक्त गठबन्धन या सिंडीकेट” को फायदा पहुंचाते हैं या फिर उनका बहुत विरोध करने की स्थिति में पहुंच जाते हैं। बहुत से गेटकीपर जो अपने रसूख और धनबल को बढ़ाने में कामयाब हो जाते हैं उन्हें भी शातिर नेटवर्क में शामिल कर लिया जाता है।

चैतन्य आलोक : (अ) व्यवस्था का तंत्र तो समझ आया सर। पर फिर भी इसे त्वरित रूप से चलाये कैसे रखा जाता है?

पी सी बाबू : (अ) व्यवस्था के पूरे तन्त्र को लालच रुपी इंजन से चलाया जाता है और इसके सभी कल पुर्जों में काले धन रुपी लुब्रीकैंट को डाला जाता है।

चैतन्य आलोक : सच कह रहें हैं, सर क्या इतना हौलनाक है यह खेल?
पी सी बाबू : हा..हा..हा.... (अ) व्यवस्था को देखने का एक नज़रिया यह भी है, चैतन्य बाबू!
**********************************************************************************

पी सी बाबू (पायति चरक जी) से हुयी हमारी पिछली बातॉं का एक लेखा-जोखा :


17 comments:

सुज्ञ said...

शातीरों की सच्चाई!!

यह अव्यवस्था की प्रबंध व्यवस्था है, यथार्थ में यह ऐसे ही काम करती है।

Suresh Chiplunkar said...

सटीक… विवेचना
पीसी बाबू तो वाकई "असली" PM बनने के लायक हैं… :) :)

kshama said...

Hmmmm....shayad mutthee bhar nek,eemaandaar logon ke karan is deshkee naiyya doobee nahee! Koyi to hoga nakhuda!

मनोज कुमार said...

पी.सी. बाबू की बातें रोचक होती हैं। उनके सानिध्य में निश्चय ही बहुत सी ज्ञान की बातें सीखने को मिलता रहता है।

संजय @ मो सम कौन ? said...

पी.सी. साहब की बातों में दम है। चरक साहब प्रेरक व्यक्तित्व हैं।
रही बात (अ)व्यवस्था की, तो साहब, हमारा मानना है कि आज के समय में बेईमानी का धंधा पूरी ईमानदारी से चलता है और अव्यवस्था ही सबसे व्यस्थित है।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

पीसी बाबू का अवलोकन भारत ही नहीं शायद मानव मात्र के लिये सटीक है। सुचारु व्यवस्था वही है जो व्यवस्था का प्रयोग निहित स्वार्थ में होने से रोक सके।

Smart Indian - स्मार्ट इंडियन said...

@ आज के समय में बेईमानी का धंधा पूरी ईमानदारी से चलता है।

ईमानदार के लिये बेईमानी दो कौडी की चीज़ भी नहीं है जबकि बेईमान भी अपने लिये ईमानदारी ही चाहता है। ईमानदारी की महत्ता का इससे बडा सबूत क्या हो सकता है?

प्रवीण पाण्डेय said...

सत्ता सत्तासीन नहीं, धन चला रहा है।

ali said...

सहमत !

ZEAL said...

Valid points by PC ji.

lokendra singh rajput said...

खरी-खरी कह रहे हैं पी सी बाबू.....

muskan said...

आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

Babli said...

बहुत सुन्दर ! उम्दा प्रस्तुती! ! बधाई!
आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

VICHAAR SHOONYA said...

चैतन्य जी और सलिल जी होली के पावन अवसर पर आपको और आपके परिवार को बहुत बहुत बधाई और शुभ कामनाएं.

सतीश सक्सेना said...

होली पर आपको सपरिवार शुभकामनायें

कविता रावत said...

बहुत सुन्दर होली प्रस्तुति
आपको सपरिवार होली की हार्दिक शुभकामनाएं

वन्दना अवस्थी दुबे said...

बढिया है भाई.

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...