सम्वेदना के स्वर

यह ब्लॉग उस सनातन उत्सवधर्मिता को जीवित रखने का प्रयास है,

जिसमें भाव रस और ताल का प्रतीक आम आदमी का भा-- बसता है.
सम्वेदनाएँ...जो कला, साहित्य, दर्शन, विज्ञान, राजनीति आदि के माध्यम से अभिव्यक्त होती हैं, आम आदमी के मन, जीवन और सरोकार से होकर गुज़रती हैं तथा तलाशती हैं उस भारत को, जो निरंतर लड़ रहा है अपने अस्तित्व की लड़ाई.....

Saturday, February 13, 2010

कविता की चोरी

अभी हाल ही में किसी न्यूज़ चैनल ने सनसनी फैलाई कि गुलज़ार सा'ब ने श्री सर्वेश्वर दयाल सक्सेना कि कविता चुराकर फिल्म इश्किया का गाना "इब्ने बतूता" लिख डाला और बड़ी मकबूलियत पा ली। सोचता हूँ उन चैनल वाले भाई के लिए कुछ रहस्योदघाटन और कर दूं, ताकि वो अगले एपिसोड में चीख कर ये घोषणा कर सकें कि गुलज़ार ने तो ग़ालिब और अमीर खुसरो तक को नहीं बख्शा है। फिल्म मौसम में " दिल ढूंढता है" और फिल्म ग़ुलामी में "जिहाले मिस्कीं" तो इन्होने पहले ही चोरी किए हुए हैं। और तो और , गुलज़ार ने तो खुद कबूला है मीडिया के सामने कि उनका गाना "चल छैंया -छैंयाँ " बुल्लेशाह की 'इश्क नचाये थैय्या थैय्या' की चोरी है। फिर तो वो चैनल ये भी पेशकश कर सकते हैं कि गुलज़ार सा'ब  को दिए गए सारे अवार्ड "जुगाड़" से मिले हैं।
अब मैं भी वैसा ही दुस्साहस करने जा रहा हूँ। अगर कल को मोमिन खान 'मोमिन' के नाम पर किसी चैनल ने मेरे खिलाफ एफ आई आर कर दी तो उसके लिए मैं ही ज़िम्मेदार माना जाऊं... बस यहाँ लिख दिया ताकि सनद रहे।
परमात्मा
मेरे माशूक
नज़र में मेरी बस तू ही है!
और दिखता नहीं कोई भी मुझे तेरे सिवा।
ख़त्म सब हो गयी दुःख की बदली
अब अँधेरा कहीं कोई न रहा।
सिर्फ आनंद है और रौशनी का सागर है
हर तरफ तेरे ही होने का है भरम होता
"तुम मेरे पास होते हो गोया
जब कोई दूसरा नहीं होता."

7 comments:

naveen said...

Plagiarism kya hai...aur inspiration kya hai..

iswar kya hai? jaise philosophy ho jate hai...
Gulzar jaise chamakte suraj ko, ye! do kaudi ke channel wale kya khaker tohmaat laga sakte hain? inko to apna saabun tail bechna hai sahib...phir kuchh bhi cheekh cheela ker majma lagana to in do kaudi ke madario ka kaam ho gaya hai......

I call today's indian elctronic media as " verbally violent and anarchic crowd of intellectually dishonest people". Often they are shamelessly biased.

Nirankush Media, Bekhabar Sarkaar, Bikhere hue Vipaksh ke beech apna aam aadmi to bus vote mangne ya poster per chipkaane ke cheeze banker reh gaya hai.....uske samvedana ke swar..kaun sunega?

aapoo said...

Thoda aur izafa kar doon. Tufail Chaturvedi ki traimasik patrika "Lafz" me ek baar ek pratiyogita aayojit ki gayi thi jisme naamvar shayaron ki ghazalo ki pahli pankti di gayi thi aur uske aage likhana thaa. Behtar likhnevale puraskrit hue. Isliye kahne vaale kah sakte hain "DANKE KI CHOT PAR CHORI" hui. Khud meri entry ko puraskar nahi mila yani chori ka inam nahi mila.

vivek said...

bohat umdaa... aaj pehli baar yahan aaya aur ekdum saahityik laga...:)

vivek sharma

vinod said...

Simit bandhano mein jakra
Simit logon se ghira
Simit dayro mein bhraman karta
Simit abhivyakti liye tarasta

Jindagi jine ke liye
Ek AAM AADMI ki tarah
Sayad yehi hota hai
Ek KHAS AADMI

Uski pira wohi jane
Jo hai KHAS AADMI

Dane ki talas mein urta panchi
Ya dane se bhara pinjre ka panchi
Yehi to maya hai
Jisme jahan samaya hai

Vinod kumar

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

Aaj kal log inspiration ko bhi jane kya kya naam dete hain..
Ibne batuta ke naam ka istemal mana saxena saab ki kavita me hai..iska matlab gulzar chacha ne chori kar li..wahiyat log..are is gane ki wajah se ek dafa fir ibn e batuta jinda hue..

Aur haan ghalib ke ek sher
"hua hai shah ka musahib fire hai itrata,
wagrna shahar me ghalib ki aabru kya hai.."

ko gulzar saab apni ek nazm me kuch yun kehte hain
"hui hai tujhse jo nisbat usi ka sadka hai
wagrna shahar me ghalib ki aabru kya hai"

aur haan aapne apni nazm me momin khan ke sher ko nayi unchai di hai...ye sher mujhe b bahut pasand hai aur aapki ye nazm b... :-) aur haan maine b aisi kuch nazmen kaheen hain par wo sher ki unchai se aage nahi ja payeen.. :-(...

स्वप्निल कुमार 'आतिश' said...

:)

Apanatva said...

saanch ko nahee aanch .............

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...